इसे छोड़कर सामग्री पर बढ़ने के लिए
Drought-Tolerant Plants

भारत में उगाने के लिए 20 सूखा-सहिष्णु पौधे | देखभाल, लाभ और स्थिरता के लिए एक गाइड

भारत अलग-अलग जलवायु और मिट्टी की स्थितियों वाला एक विविधतापूर्ण देश है, और इस तरह, ऐसे कई पौधे हैं जो सूखा-सहिष्णु हैं और विभिन्न क्षेत्रों में पनप सकते हैं। यहां 20 सूखा-सहिष्णु पौधे हैं जो भारतीय परिस्थितियों के लिए उपयुक्त हैं:

  1. एलोवेरा (Aloe barbadensis): यह रसीला पौधा अपने औषधीय गुणों और शुष्क परिस्थितियों में जीवित रहने की क्षमता के लिए प्रसिद्ध है। इसे गमलों में या सीधे जमीन में भी उगाया जा सकता है।

  2. बोगेनविलिया (बोगेनविलिया एसपीपी।): ये रंगीन झाड़ियाँ सूखा-सहिष्णु हैं और कई प्रकार की मिट्टी में उग सकती हैं। वे आपके बगीचे में रंग का एक पॉप जोड़ने के लिए एकदम सही हैं।

  3. कैक्टि (कैक्टैसी): कैक्टि बेहद सूखा-सहिष्णु हैं और कई प्रकार के आकार और आकार में आते हैं। इन्हें गमलों में या जमीन में उगाया जा सकता है।

  4. करी पत्ते (Murraya koenigii): यह छोटा पेड़ भारतीय खाना पकाने में एक आवश्यक घटक है और इसे विभिन्न प्रकार की मिट्टी में उगाया जा सकता है। यह सूखा-सहिष्णु और कम रखरखाव वाला है।

  5. खजूर (फीनिक्स डेक्टाइलिफेरा): ये ताड़ के पेड़ शुष्क परिस्थितियों के अनुकूल होते हैं और गर्मी और हवा को सहन कर सकते हैं। वे अपने मीठे फल के लिए भी बेशकीमती हैं।

  6. ड्रैगन फ्रूट (हाइलोसेरियस अनडाटस): यह कैक्टस जैसा पौधा अपने स्वास्थ्य लाभ और सूखा सहने की प्रकृति के कारण भारत में तेजी से लोकप्रिय हो रहा है।

  7. नीलगिरी (नीलगिरी एसपीपी।): ये तेजी से बढ़ने वाले पेड़ शुष्क परिस्थितियों के अनुकूल हैं और लकड़ी और लुगदी उत्पादन के लिए उपयोग किए जा सकते हैं।

  8. मेंहदी (लॉसनिया इनर्मिस): यह झाड़ी अपने प्राकृतिक रंग के लिए बेशकीमती है, जिसका उपयोग पारंपरिक भारतीय कला और वस्त्रों में किया जाता है। इसे कई प्रकार की मिट्टी में उगाया जा सकता है और यह सूखा-सहिष्णु है।

  9. पवित्र तुलसी (Ocimum tenuiflorum): यह जड़ी बूटी आयुर्वेदिक चिकित्सा में एक आवश्यक घटक है और इसका उपयोग खाना पकाने में भी किया जाता है। यह सूखा-सहिष्णु और बढ़ने में आसान है।

  10. कटहल (आर्टोकार्पस हेटरोफिलस): यह बड़े फल का पेड़ शुष्क परिस्थितियों के लिए उपयुक्त है और छाया और फल प्रदान कर सकता है।

  11. लैवेंडर (लवंडुला एसपीपी।): यह सुगंधित जड़ी बूटी सूखा-सहिष्णु है और इसे बर्तनों या जमीन में उगाया जा सकता है। इसका उपयोग अक्सर इसके शांत गुणों के लिए किया जाता है।

  12. लेमन ग्रास (सिंबोपोगोन सिट्रेटस): इस सुगंधित जड़ी-बूटी का उपयोग अक्सर भारतीय खाना पकाने में किया जाता है और यह सूखा-सहिष्णु है।

  13. मैरीगोल्ड (टैगेट एसपीपी।): इन रंगीन फूलों को उगाना आसान होता है और इन्हें सजावटी उद्देश्यों के लिए या प्राकृतिक कीट विकर्षक के रूप में इस्तेमाल किया जा सकता है।

  14. नीम (Azadirachta indica): यह पेड़ अपने औषधीय गुणों के लिए प्रसिद्ध है और इसे विभिन्न प्रकार की मिट्टी में उगाया जा सकता है। यह सूखा-सहिष्णु और कम रखरखाव वाला है।

  15. अनार (प्यूनिका ग्रेनटम): यह फल का पेड़ शुष्क परिस्थितियों के अनुकूल है और छाया और फल प्रदान कर सकता है। यह अपने स्वास्थ्य लाभों के लिए भी बेशकीमती है।

  16. मेंहदी (रोसमारिनस ऑफिसिनैलिस): यह सुगंधित जड़ी बूटी सूखा-सहिष्णु है और इसे गमलों या जमीन में उगाया जा सकता है। इसका उपयोग अक्सर खाना पकाने और इसके औषधीय गुणों के लिए किया जाता है।

  17. ऋषि (साल्विया एसपीपी।): यह जड़ी बूटी सूखा-सहिष्णु है और इसे गमलों या जमीन में उगाया जा सकता है। इसका उपयोग अक्सर खाना पकाने और इसके औषधीय गुणों के लिए किया जाता है।

  18. इमली (टैमरिंडस इंडिका): यह बड़ा फलदार पेड़ शुष्क परिस्थितियों के लिए उपयुक्त है और छाया और फल प्रदान कर सकता है।

  19. अजवायन के फूल (अजवायन के पौधे अच्छी तरह से जल निकासी वाली मिट्टी और पूर्ण सूर्य में बढ़ने में आसान होते हैं। वे नियमित छंटाई से लाभान्वित होते हैं और पाक या औषधीय उपयोग के लिए काटा जा सकता है। अजवायन के फूल में जीवाणुरोधी और एंटीऑक्सीडेंट गुण होते हैं और इसका उपयोग पाचन में सहायता करने, श्वसन संबंधी समस्याओं से राहत देने और राहत देने के लिए किया जाता है। विश्राम को बढ़ावा देना।

  1. हल्दी (करकुमा लोंगा): यह जड़ी बूटी भारतीय खाना पकाने में एक आवश्यक घटक है और इसका उपयोग पारंपरिक दवाओं में भी किया जाता है। इसे कई प्रकार की मिट्टी में उगाया जा सकता है और यह सूखा-सहिष्णु है।

जब इन सूखा-सहिष्णु पौधों को उगाने की बात आती है, तो यहां कुछ सामान्य सुझाव दिए गए हैं:

  • सही स्थान चुनें: अपने बगीचे में एक ऐसी जगह का चयन करें जहां पूर्ण सूर्य प्राप्त होता है और अच्छी जल निकासी वाली मिट्टी हो।

  • सही मिट्टी का प्रयोग करें: ऐसी मिट्टी चुनें जो अच्छी जल निकासी वाली हो और पोषक तत्वों से भरपूर हो। ऐसी मिट्टी से बचें जो भारी और जल भराव वाली हो।

  • बुद्धिमानी से पानी दें: अपने पौधों को अधिक बार उथले पानी देने के बजाय, उन्हें गहराई से और कम बार-बार पानी दें। यह पौधों को गहरी जड़ें विकसित करने और अधिक सूखा-सहिष्णु बनने के लिए प्रोत्साहित करेगा।

  • गीली घास: मिट्टी में नमी बनाए रखने में मदद के लिए अपने पौधों के चारों ओर गीली घास की एक परत का प्रयोग करें।

  • उर्वरक: अपने पौधों को पनपने के लिए आवश्यक पोषक तत्व प्रदान करने के लिए धीमी गति से निकलने वाले उर्वरक का उपयोग करें।

  • नियमित रूप से छंटाई करें: अपने पौधों की छंटाई करने से उन्हें अपना आकार और आकार बनाए रखने में मदद मिलेगी, साथ ही नए विकास को बढ़ावा मिलेगा।

सूखा-सहिष्णु पौधों को उगाने के लाभों में शामिल हैं:

  • पानी का कम उपयोग: सूखा-सहिष्णु पौधों को अन्य पौधों की तुलना में कम पानी की आवश्यकता होती है, जो उन क्षेत्रों में पानी के संरक्षण में मदद कर सकता है जहां पानी की कमी है।

  • कम रखरखाव: सूखा-सहिष्णु पौधे अक्सर कम रखरखाव वाले होते हैं और अन्य पौधों की तुलना में कम देखभाल की आवश्यकता होती है।

  • मिट्टी की गुणवत्ता में सुधार: सूखा सहने वाले पौधे कटाव को कम करके और मिट्टी में स्वस्थ माइक्रोबियल गतिविधि को बढ़ावा देकर मिट्टी की गुणवत्ता में सुधार करने में मदद कर सकते हैं।

  • सौंदर्य अपील: सूखा-सहिष्णु पौधे रंगों और आकारों की श्रेणी में आते हैं, और आपके बगीचे में सुंदरता और रुचि जोड़ सकते हैं।

  • स्थिरता: ऐसे पौधों को उगाने से जो स्थानीय जलवायु के अनुकूल हों और जिन्हें कम पानी की आवश्यकता हो, आप अधिक टिकाऊ और पर्यावरण के अनुकूल उद्यान बना सकते हैं।

  • लागत बचत: सूखा-सहिष्णु पौधे पानी के बिलों पर पैसे बचाने और महंगी सिंचाई प्रणालियों की आवश्यकता को कम करने में आपकी सहायता कर सकते हैं।

  • लचीलापन: सूखा-सहिष्णु पौधे अक्सर अत्यधिक मौसम की स्थिति, जैसे सूखा या गर्मी की लहरों के प्रति अधिक लचीले होते हैं।

  • जैव विविधता: विभिन्न प्रकार के सूखे-सहिष्णु पौधों को चुनकर, आप एक अधिक विविध और दिलचस्प उद्यान बना सकते हैं जो कई प्रकार के परागणकों और वन्यजीवों को आकर्षित करता है।

  • स्वास्थ्य लाभ: कई सूखा-सहिष्णु पौधों में औषधीय गुण होते हैं या पारंपरिक चिकित्सा में उपयोग किए जाते हैं, और कई प्रकार के स्वास्थ्य लाभ प्रदान कर सकते हैं।

जब आपके सूखा-सहिष्णु पौधों की देखभाल करने की बात आती है, तो उन्हें नियमित रूप से मॉनिटर करना और आवश्यकतानुसार अपने पानी और उर्वरक को समायोजित करना महत्वपूर्ण है। आपके बगीचे की विशिष्ट परिस्थितियों के आधार पर कुछ पौधों को अधिक या कम पानी की आवश्यकता हो सकती है, इसलिए उनकी व्यक्तिगत जरूरतों पर ध्यान देना महत्वपूर्ण है। थोड़ी सी देखभाल और ध्यान से, आप एक सुंदर और फलते-फूलते बगीचे का निर्माण कर सकते हैं जो भारत की जलवायु और परिस्थितियों के अनुकूल है।

पिछला लेख नेल्लोर में बेस्ट प्लांट नर्सरी: कडियाम नर्सरी में ग्रीन ओएसिस की खोज करें

एक टिप्पणी छोड़ें

* आवश्यक फील्ड्स