इसे छोड़कर सामग्री पर बढ़ने के लिए
A Brief Introduction to the Chennangi Coconut Plant - Kadiyam Nursery

चेन्नांगी नारियल के पौधे का संक्षिप्त परिचय

चेन्नांगी नारियल का पौधा दुनिया के दुर्लभ पौधों में से एक है। यह दक्षिण भारत और श्रीलंका के मूल निवासी है। इस पौधे में एक फल होता है जिसका स्वाद नारियल और अनानास के संयोजन जैसा होता है। इसे तमिल में चेन्नांगी कहा जाता है, और कन्नड़ में ‌।

चेन्नांगी फल को सबसे पहले यूरोप में डॉ. वेरियर एल्विन द्वारा पेश किया गया था, जो इंग्लैंड के एक मानवविज्ञानी, भाषाविद् और लेखक थे, जो कई वर्षों तक भारत में रहे।

चेन्नांगी नारियल के पौधे की रक्षा करना क्यों महत्वपूर्ण है?

चेन्नांगी नारियल का पौधा दुनिया में अपनी तरह का अकेला पौधा है। यह एक ऐसा पौधा है जो बिना टैप किए नारियल के दूध का उत्पादन कर सकता है।

नारियल का पौधा सदियों से भारतीय आहार का अहम हिस्सा रहा है। इसका उपयोग न केवल जीविका प्रदान करने के लिए बल्कि तेल, साबुन और यहां तक ​​कि ताड़ी नामक मादक पेय बनाने के लिए भी किया जाता है।

इस पौधे की रक्षा करना महत्वपूर्ण है क्योंकि यह भारत में कई लोगों को भोजन और आजीविका प्रदान करता है।

नारियल - भारत में छोटे किसानों के लिए आय का एक महत्वपूर्ण स्रोत

भारत में छोटे किसानों के लिए नारियल आय का एक महत्वपूर्ण स्रोत है। नारियल के बागान दक्षिणी और पूर्वी भारत के तटीय क्षेत्रों में पाए जाते हैं।

नारियल का उपयोग विभिन्न प्रयोजनों जैसे खाना पकाने, करी बनाने, तेल निकालने और नारियल पानी बनाने के लिए भी किया जाता है।

नारियल का पेड़ एक लंबा तना वाला एक सुंदर पेड़ है जिसकी ऊंचाई 20 मीटर तक हो सकती है। जिस क्षेत्र में वे उगाए जाते हैं, उसके आधार पर नारियल जमीन पर या पेड़ों पर उगाए जाते हैं।

निष्कर्ष: चेन्नांगी नारियल के पौधे का महत्व और इससे भारत की अर्थव्यवस्था को कैसे लाभ हुआ है

चेन्नांगी नारियल का पौधा एक तेजी से बढ़ने वाला पौधा है जिसका उपयोग भारत में सदियों से किया जा रहा है। यह एक पारंपरिक फसल है और भारत के हर हिस्से में पाई जा सकती है। पौधे का उपयोग विभिन्न उत्पादों जैसे नारियल तेल, नारियल का दूध और यहां तक ​​कि नारियल के बाहरी आवरण को प्रदान करने के लिए किया गया है।

संयंत्र महत्वपूर्ण है क्योंकि यह भारत में कई लोगों के लिए एक आर्थिक अवसर प्रदान करता है। यह देश को एक महत्वपूर्ण खाद्य स्रोत भी प्रदान करता है, और इसका उपयोग विभिन्न बीमारियों के लिए प्राकृतिक उपचार के रूप में किया जा सकता है।

पिछला लेख नेल्लोर में बेस्ट प्लांट नर्सरी: कडियाम नर्सरी में ग्रीन ओएसिस की खोज करें

टिप्पणियाँ

B J Srinivasa Reddy - नवंबर 22, 2023

Please let me know the age and price of chennangi coconut sappling , required 60 nos in visakhapatanam.

Sridhar - अगस्त 18, 2023

Hi, I am interested to buy around 50 saplings.

Shashikumar - जून 16, 2023

Hi lm interested in chennangi breed. Pls share details, seedlings age, price n transportation. Pls let me know availability in Karnataka.

एक टिप्पणी छोड़ें

* आवश्यक फील्ड्स