इसे छोड़कर सामग्री पर बढ़ने के लिए
Best Creeper Plants in India

भारत में सर्वश्रेष्ठ क्रीपर प्लांट्स जिन्हें आप ग्राउंड कवर के रूप में उपयोग कर सकते हैं

ऐसे कई लता पौधे हैं जिनका उपयोग भारत में जमीनी आवरण के रूप में किया जा सकता है। कुछ लोकप्रिय विकल्पों में शामिल हैं:

  1. आइवी (हेडेरा हेलिक्स) - आइवी तेजी से बढ़ने वाली, सदाबहार लता है जो यूरोप की मूल निवासी है। यह सूखा-सहिष्णु है और विभिन्न प्रकार की मिट्टी की स्थितियों में पनप सकता है।

  2. पलेक्ट्रन्थस (पलेक्ट्रान्थस प्रजाति) - पलेक्ट्रान्थस एक बारहमासी लता है जो भारत की मूल निवासी है। यह एक कम रखरखाव वाला पौधा है जो कीट और रोगों के लिए प्रतिरोधी है।

  3. लिरीओप (लिरीओप मस्करी) - लिरीओप एक झुरमुट बनाने वाली लता है जो चीन और जापान की मूल निवासी है। यह सूखा-सहिष्णु है और आंशिक छाया या पूर्ण सूर्य में पनप सकता है।

  4. एपिप्रेमनम (एपिप्रेमनम ऑरियम) - एपिप्रेमनम, जिसे पोथोस या डेविल्स आइवी के रूप में भी जाना जाता है, एक तेजी से बढ़ने वाली, सदाबहार लता है जो दक्षिण पूर्व एशिया की मूल निवासी है। इसकी देखभाल करना आसान है और यह विभिन्न प्रकार की मिट्टी की स्थितियों में पनप सकता है।

  5. सोलनम जैस्मिनोइड्स (सोलनम जैस्मिनोइड्स) - सोलनम जैस्मिनोइड्स, जिसे आलू की बेल या नाइटशेड के रूप में भी जाना जाता है, एक तेजी से बढ़ने वाली, सदाबहार लता है जो दक्षिण अमेरिका की मूल निवासी है। यह सूखा-सहिष्णु है और आंशिक छाया या पूर्ण सूर्य में पनप सकता है।

  6. Muehlenbeckia (Muehlenbeckia प्रजाति) - Muehlenbeckia एक तेजी से बढ़ने वाली, सदाबहार लता है जो न्यूजीलैंड की मूल निवासी है। यह सूखा-सहिष्णु है और विभिन्न प्रकार की मिट्टी की स्थितियों में पनप सकता है।

  7. Trachelospermum (Trachelospermum प्रजाति) - Trachelospermum, जिसे स्टार जैस्मीन या कन्फेडरेट चमेली के रूप में भी जाना जाता है, एक तेजी से बढ़ने वाली, सदाबहार लता है जो एशिया की मूल निवासी है। यह सूखा-सहिष्णु है और आंशिक छाया या पूर्ण सूर्य में पनप सकता है।

एक लता का पौधा चुनना महत्वपूर्ण है जो आपके क्षेत्र में बढ़ती परिस्थितियों के लिए उपयुक्त हो, जैसे कि धूप की मात्रा और मिट्टी का प्रकार।

परिचय: क्रीपर प्लांट क्या है और वे इतने बड़े ग्राउंड कवर क्यों बनाते हैं?

लता का पौधा, जिसे बेल के रूप में भी जाना जाता है, एक प्रकार का पौधा है जो क्षैतिज रूप से जमीन के साथ बढ़ता है या टेंड्रिल या शूट का उपयोग करके संरचनाओं पर चढ़ता है। क्रीपर पौधों को अक्सर ग्राउंड कवर के रूप में उपयोग किया जाता है क्योंकि उनकी कम, फैलने की आदत होती है और वे बगीचे या परिदृश्य में खाली जगहों को जल्दी से भर सकते हैं।

क्रीपर प्लांट्स को ग्राउंड कवर के रूप में इस्तेमाल करने के कई फायदे हैं। वे खरपतवारों को दबाने, कटाव को कम करने और मिट्टी में नमी को संरक्षित करने में मदद कर सकते हैं। लता के पौधे अपने विभिन्न आकार, आकार और रंगों के साथ बगीचे या परिदृश्य में दृश्य रुचि भी जोड़ सकते हैं।

ग्राउंड कवर के रूप में उपयोग के लिए कुछ लोकप्रिय क्रीपर पौधों में आइवी, पेलेट्रान्थस, लिरीओप, एपिप्रेमनम, सोलनम जैस्मिनोइड्स, म्यूलेनबेकिया और ट्रेचेलोस्पर्मम शामिल हैं। एक लता का पौधा चुनना महत्वपूर्ण है जो आपके क्षेत्र में बढ़ती परिस्थितियों के लिए उपयुक्त हो, जैसे कि धूप की मात्रा और मिट्टी का प्रकार।

भारतीय लता संयंत्र उपयोग

भारत में लता पौधों के कई उपयोग हैं। यहाँ कुछ तरीके दिए गए हैं जिनसे लता पौधों का उपयोग किया जा सकता है:

  1. ग्राउंड कवर - क्रीपर प्लांट्स को गार्डन या लैंडस्केप में खाली जगहों को भरने के लिए ग्राउंड कवर के रूप में इस्तेमाल किया जा सकता है। वे खरपतवारों को दबाने, कटाव को कम करने और मिट्टी में नमी को संरक्षित करने में मदद कर सकते हैं।

  2. वर्टिकल गार्डन - क्रीपर प्लांट्स को कंटेनर या हैंगिंग बास्केट में लगाकर और उन्हें दीवारों, बाड़ या जाली पर चढ़ने के लिए प्रशिक्षित करके वर्टिकल गार्डन बनाने के लिए इस्तेमाल किया जा सकता है। यह एक बगीचे में दृश्य रुचि जोड़ सकता है और स्थान भी बचा सकता है।

  3. कवरिंग स्ट्रक्चर - क्रीपर प्लांट्स का इस्तेमाल आर्बर्स, पेर्गोलस और गज़बोस जैसी स्ट्रक्चर्स को कवर करने के लिए किया जा सकता है। यह संरचना में एक सजावटी तत्व जोड़ सकता है और छाया भी प्रदान कर सकता है।

  4. प्राइवेसी स्क्रीन - क्रीपर प्लांट्स को बाड़ या दीवारों के साथ लगाकर प्राइवेसी स्क्रीन बनाने के लिए इस्तेमाल किया जा सकता है। यह गोपनीयता प्रदान कर सकता है और बगीचे में सजावटी तत्व भी जोड़ सकता है।

  5. कटाव नियंत्रण - क्रीपर पौधों का उपयोग ढलानों या किनारों पर मिट्टी को उनकी जड़ों के साथ पकड़ कर कटाव को नियंत्रित करने के लिए किया जा सकता है।

एक लता का पौधा चुनना महत्वपूर्ण है जो आपके क्षेत्र में बढ़ती परिस्थितियों के लिए उपयुक्त हो, जैसे कि धूप की मात्रा और मिट्टी का प्रकार।

निष्कर्ष और सिफ़ारिश

अंत में, लता के पौधे भारत में बगीचों और परिदृश्य के लिए एक उपयोगी और बहुमुखी विकल्प हैं। उनका उपयोग ग्राउंड कवर, वर्टिकल गार्डन, संरचनाओं को कवर करने के लिए, गोपनीयता स्क्रीन के रूप में और कटाव नियंत्रण के लिए किया जा सकता है।

भारत में अपने बगीचे में क्रीपर्स का उपयोग करने के लिए, एक क्रीपर प्लांट चुनें जो आपके क्षेत्र में बढ़ती परिस्थितियों के लिए उपयुक्त हो, जैसे कि धूप की मात्रा और मिट्टी का प्रकार। लता को ऐसे स्थान पर रोपें जहाँ उसके फैलने और बढ़ने के लिए जगह हो। क्रीपर को नियमित रूप से पानी दें, विशेष रूप से शुष्क अवधि के दौरान, और स्वस्थ विकास को बढ़ावा देने के लिए आवश्यकतानुसार इसे खाद दें। इसके आकार और आकार को नियंत्रित करने के लिए लता की आवश्यकतानुसार छँटाई करें।

भारत में लताएँ उगाने के लिए, एक लता का पौधा चुनें जो आपके क्षेत्र में उगने वाली परिस्थितियों के लिए उपयुक्त हो, जैसे कि धूप की मात्रा और मिट्टी का प्रकार। लता को ऐसे स्थान पर रोपें जहाँ उसके फैलने और बढ़ने के लिए जगह हो। क्रीपर को नियमित रूप से पानी दें, विशेष रूप से शुष्क अवधि के दौरान, और स्वस्थ विकास को बढ़ावा देने के लिए आवश्यकतानुसार इसे खाद दें। इसके आकार और आकार को नियंत्रित करने के लिए लता की आवश्यकतानुसार छँटाई करें। कुछ लता पौधों को ठीक से बढ़ने के लिए समर्थन की आवश्यकता हो सकती है, जैसे ट्रेलिस या आर्बर।

अपने बगीचे में कौन सा उपयोग करना है, यह चुनते समय क्रीपर प्लांट की रखरखाव आवश्यकताओं पर विचार करना भी महत्वपूर्ण है। कुछ लता पौधों को अपने वांछित आकार और आकार को बनाए रखने के लिए दूसरों की तुलना में अधिक छंटाई और प्रशिक्षण की आवश्यकता हो सकती है।

कुल मिलाकर, लता के पौधे भारत में किसी भी बगीचे या परिदृश्य के लिए एक उपयोगी और आकर्षक जोड़ हो सकते हैं।

पिछला लेख नेल्लोर में बेस्ट प्लांट नर्सरी: कडियाम नर्सरी में ग्रीन ओएसिस की खोज करें

एक टिप्पणी छोड़ें

* आवश्यक फील्ड्स